Header Ads

शिक्षामित्रों को मिला AAP का साथ, संजय सिंह ने संसद में उठाया शिक्षा मित्रो का मुद्दा

शिक्षामित्रों को मिला AAP का साथ,  संजय सिंह ने संसद में उठाया शिक्षा मित्रो का मुद्दा
शिक्षामित्रों को मिला AAP का साथ,  संजय सिंह ने संसद में उठाया शिक्षा मित्रो का मुद्दा 


लखनऊ - उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में बुधवार को शिक्षामित्रों ने योगी सरकार के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। समायोजन रद्द होने के बाद अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रही महिला शिक्षामित्रों ने लखनऊ में अपने बाल मुंडवाकर विरोध प्रदर्शन किया। शिक्षामित्रों ने राज्य व केंद्र सरकार पर अपनी अनदेखी करने के आरोप लगाए। 

आम आदमी पार्टी सांसद संजय सिंह ने शिक्षामित्रों का मुद्दा राज्यसभा में उठाया 

उत्तर प्रदेश में शिक्षामित्रों की दुर्दशा के बारे में केंद्र सरकार का ध्यान आकर्षित करने एवं शिक्षामित्रों की मांगों को पूरा करवाने के लिए गुरुवार को आम आदमी पार्टी के यूपी प्रभारी एवं राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने राज्यसभा में शिक्षामित्रों के पक्ष में जोरदार तरीके से बुलंद आवाज़ उठाई।


सांसद संजय सिंह ने बताया कि प्राथमिक शिक्षक संघ के अनुसार 700 शिक्षामित्र गरीबी और अवसाद के कारण आत्महत्या कर चुके हैं। मात्र कुछ तकनीकी कारणों की वजह से शिक्षामित्र सर्वोच्य न्यायालय में मुकद्दमा हार गए थे। उन तकनीकी कारणों को प्रशिक्षण एवं कानून में संशोधन करके शिक्षामित्रों को केंद्र सरकार द्वारा बहाली की जा सकती है।
उन्होंने सदन के माध्यम से केंद्र सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार से सवाल किया है कि सरकार शिक्षामित्रों को सहायक अध्यापक के पद पर कब तक बहाल करेगी? समान शासनादेश से यूपी और उत्तराखंड दोनों प्रदेशों में शिक्षामित्रों की नियुक्ति हुई थी। उत्तर प्रदेश में शिक्षामित्रों का डिमोशन हो गया जबकि उत्तराखंड में समान शासनादेश से एक ही समय में नियुक्त शिक्षामित्र सहायक अध्यापक का वेतन पा रहे हैं। इस पर सरकार से सवाल किया है कि ऐसा क्यों है कि उत्तराखंड जैसे प्रावधान उत्तर प्रदेश में लागू नहीं हो सकते हैं।

मुख्यमंत्री ने किया विद्यालयों का निरीक्षण, वृहद स्वच्छता अभियान का शुभारंभ


महिला शिक्षामित्रों ने भी सिर मुंडवाया


बतादे कि शिक्षामित्रों ने प्रदर्सन के दौरान महिला शिक्षामित्रों ने भी सिर मुंडवाया। शिक्षामित्र पिछले 38 दिनों से अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इस प्रदर्शन में पुरे उत्तर प्रदेश से हजारों की संख्या में शिक्षामित्र शामिल हुए।

बाल मुंडवाने के पहले प्रदर्शन कर रहे शिक्षामित्रों ने अब तक जान गंवाने वाले अपने साथियों की आत्मा की शांति के लिए हवन कर उन्हें श्रद्घांजलि दी। उन्होंने मृतकों के परिजनों के लिए आर्थिक सहायता की भी मांग की।

योगी ने यूपी को बना दिया है रोगी - संजय सिंह AAP


आम आदमी पार्टी ने महिला शिक्षामित्रों के बाल मुंडवाने पर योगी सरकार पर साधा निशाना 


आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने ट्विटर पर लिखा कि 'अत्यंत दुखद है उत्तर प्रदेश की योगी सरकार और केन्द्र की मोदी सरकार शिक्षामित्रों की माँगों से बेपरवाह है शर्म की बात है की महिलाओं को भी सिर मुँड़ाने को मजबूर होना पड़ रहा है लेकिन बेशर्म सत्ता के नशे में मदमस्त हैं'।


बता दे कि सर्वोच्च न्यायालय ने शिक्षामित्रों का समायोजन रद्द कर दिया था जिसके बाद से ही शिक्षामित्र आंदोलन कर रहे हैं। उनकी मांग है कि शिक्षामित्रों को पैराटीचर बनाया जाए और जो शिक्षामित्र टीईटी उत्तीर्ण हैं उन्हें बिना परीक्षा दिए ही नियुक्ति दी जाए।

सरकार से शिक्षामित्रों की कई दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन अभी तक कोई हल नहीं निकला है। सरकार द्वारा दिए जा रहे मासिक वेतन को लेकर भी शिक्षामित्र खुश नहीं हैं।

No comments